Hindi

वो एनिवर्सरी गिफ्ट जो उसने प्लान नहीं किया था

गुनाह था एनिवर्सरी भूलना. अब उसे पुरे परिवार की मदद से अपने इस पाप को धोना था.
Couple at dining table

“हमारे हनीमून के लिए हम सिक्किम गए थे. अपनी शादी की पहली सालगिरह पर हम डूअर्स गए थे. अब क्या तुम चाहते हो की हमारी दूसरी एनिवर्सरी पर मैं यूँ घर में ही बैठी रहूँ,” पत्नी ने बौखला कर कहा.

अब जो भी इतना खुशकिस्मत है की उसने अपनी पत्नी की ऐसी बातें सुनी हैं, या इतना बदकिस्मत है की दुसरे की पत्नी की ऐसी बाते सुनी हैं, उसे मुझे अपनी स्तिथि का विवरण देने की कोई ज़रुरत नहीं. मगर वो कुछ लोग जो दोनों में से किसी भी श्रेणी में नहीं आते हैं, उन्हें बताना चाहूंगा की स्तिथि काबू में थी.

बात असल में ये थी की ये बातचीत फ़ोन पर हो रही थी. वो उस समय मायके में थी और मैं घर पर था. और इन सब बातों में और हवा दी जा रही थी मेरी साढ़े सात महीने की बेटी के लगातार रोने की आवाज़ से.

तुम मेरी कदर नहीं करते अब!

जब से तुम्हारी बेटी दुनिया में आई है, तुम मुझे बिलकुल भूल ही गए हो,” उसकी बातें अभी ख़त्म नहीं हुई थीं. “गए वो दिन जब तुम कहानियां लिख कर मुझे रिझाने की कोशिश करते थे और सरप्राइज गिफ्ट्स ला कर मुझे खुश करने का प्रयास करते थे..” वो असल में कुछ गलत भी तो नहीं बोल रही थी इसलिए मैं भी चुपचाप सुनता रहा.

“और अब तुम्हे तो हमारी शादी की सालगिरह भी नहीं याद है,” उफ़ वो फिर से सही थी मगर अब मुझे रोकना ही था.

तो मैंने कहा.. “अरे तुमने कैसे सोच लिया की इस बार मैंने कुछ प्लान नहीं किया है. कल के लिए कुछ बहुत ही शानदार तुम्हारा इंतज़ार कर रहा है,” एक पब्लिक प्रवक्ता और एक लेखक होना ऐसे अवसरों पर काफी काम आता है.

man talking on phone
Image source

“अच्छा, और बताओ. मैं सुन रही हूँ,” उसकी आवाज़ में अब मैं नरमी महसूस कर सकता था.

“मैंने तो तुमसे कहा था की सप्ताहांत किसी फाइव स्टार होटल में जा कर रहते है मगर तुम तो इस ऑफर से साफ़ मुकर गई थी. मुझे पता है की मुझे पहले से ही कुछ प्लान कर लेना चाहिए था मगर अब भी मेरे पास तुम्हारे लिए एक सरप्राइज है. तुम कल आओ तो तुम्हे खुद ही मेरी बात पर यकीन हो जायेगा.”

प्रॉमिस तो था मगर प्लान कहाँ था!

और फिर यहीं से सब शुरू हुआ. मुझे एक प्लान बनाना था और उसकी तैयारी में एकजुट हो जाना था. अपने पिछले सफल रिकॉर्ड के बाद मुझे इस नए प्लान में मदद की बहुत ज़रुरत थी.

जब आप गहरी मुसीबत में फंसते हो तो क्या करते हो? आप कैसे अपने प्यार के लिए बहुत ही खूबसूरत सरप्राइज प्लान करते हो? आपका तो मुझे नहीं पता मगर मैं भीषम पितामह रुपी अपनी ८५ वर्षीया दादी, जिन्हे हम प्यार से अट्टम बुलाते हैं,  के पास पहुंच गया.

“बस अब तू परेशांन मत हो,” उन्होंने मुझे कहा. “मैं मानुषी की मदद से अफगानी तरीके से कश्मीरी पुलाओ बना दूँगी।” मानुषी दीदी हमारी रसोइया होने के साथ हमारे परिवार की एक सदस्या भी थी. वो भी तुरंत मदद के लिए तैयार हो गई. खैर, उनकी हामी में एक राज़ ये भी था की इसी बहाने वो अट्टम से उस पुलाओ की विधि सीख लेंगी जो उन्होंने आज से करीब सोलह साल पहले आखिरी बार बनाई थी.

थोड़ी से जान में जान आई. अब मैं अपने दुसरे चरण की तैयारी के लिए टोनी आंटी के पास पंहुचा. “नाहोम के पास पेस्ट्री ज़रूर होंगी. मैं कल तुम्हारे साथ नई मार्किट  वो ले आएंगे,” उन्होंनेऔर फिर यहीं से सब शुरू हुआ. मुझे एक प्लान बनाना था और उसकी तैयारी में एकजुट हो जाना था. अपने पिछले सफल रिकॉर्ड के बाद मुझे इस नए प्लान में मदद की बहुत ज़रुरत थी.

cute couple pic
जब मेरे संयुक्त परिवार ने मेरी जान बचाई

बाकी के सारे काम मेषमुनि अंकल और माशु आंटी ने संभाल लिए. मेषमुनि स्यालदाह से पुदीने के पत्ते ले आये और माशु ने क्राकरी ढूंढ कर निकली, उन्हें साफ़ करि और फिर उन्हें करीने से लगा दी.

अब बाकी के प्लान की तैयारी मुझे अकेले ही करनी थी. मैं यूट्यूब पर गाने ढूंढ़ने लगा और संगीत के वीडियो डाउनलोड करने लगा. क्या ये काफी होगा? मैं वीडियो डाउनलोड कर के टीवी पर सेव कर रहा था ताकि जब वो आये उसे मेरे सात चरण के सरप्राइज का पहले भाग दिखे. मुझसे अब सब्र नहीं हो रहा था.

करीब बारह बजे फ़ोन की घंटी बजी और मेरा दिल वही थम गया. आंकना का ही फ़ोन था और उसने कहा की वो दो मिनट में पहुंचने वाली है.

मैं आत्मविश्वास के साथ मुस्कुराते हुए सीढ़ियों से नीचे उतरने लगा. उस सौ साल पुराने हमारे घर में कभी किसी ने वो नहीं पहना था जो उस पहन कर मैं अपनी पत्नी के स्वागत में खड़ा था. मैंने हैरम पैन्ट्स और पुरे आस्तीन वाली कसी हुई टी शर्ट पहनी थी.

और फिर मैंने सीन सेट किया

जब उसकी टैक्सी पहुंची, और आंकना हमारी बेटी के साथ घर में घुसी, मुझे देखते ही वो हंसी से लोटपोट होने लगी. ये अच्छी शुरुवात नहीं थी मगर मुझे अपने करैक्टर में रहना बहुत ज़रूरी था. तो उसकी हंसी से बिना प्रभावित हुए उसके पास पंहुचा और उससे कहा, “आओ मेरी प्रिय, मिडिल ईस्टर्न सरप्राइज की तरफ कदम बढ़ाओ.”

उसने अपनी हंसी काबू में की और थोड़ी सी आश्चर्यचकित होकर मेरे पीछे पीछे सीढ़ियां चढ़ने लगी. सामने उसने टीवी स्क्रीन पर तरकन को टर्की की गलियों में सिक्किडिम गाते देखा, तो देखती रह गई.

man giving woman surprise
Image source

“ये सात में से मेरा पहला सरप्राइज है. अरेबियन गानों का म्यूजिक वीडियो,: मैंने उसे बताया. जब स्टिंग का “डेजर्ट रोज”बजने लगा तो मैंने उसे मेरा दूसरा सरप्राइज दिया–अलग अलग रंगो के गुलाब का गुच्छा. अलग अलग रंग जो प्रतिक थे उसके अलग अलग महत्त्व का मेरे जीवन में. पीला दोस्ती के लिए, लाल प्यार के लिए, गुलाबी.. आप समझ ही गए की तात्पर्य क्या था.

अब समय तीसरे सरप्राइज का था-मेरे द्वारा बनाया गया लेबनीज लेमन चिकन. उसे वो बहुत पसंद आया.

फिर जब मैं उसे स्वागत ड्रिंक सर्वे करने जा रहा था तो उसने कहा, “कहीं रूह अफ़ज़ा तो नहीं लाओगे न? मुझे वो बिलकुल पसंद नहीं.”

मैंने मुस्कुराते हुए उसे विर्जिन मोइतो का गिलास पकड़ाया और मुस्कुराते हुए कहा, “ये एक्स्ट्रा है.” उसने घूँट भरा और उसकी शक्ल देख मेरा दिन बन गया.

कहना न होगा की उसे मेरा चौथा सरप्राइज, लंच, बहुत पसंद आया. पुलाओ परफेक्ट था और वो तुर्की पेस्ट्रीज बेमिसाल, उसने मुझसे कहा.

और जब बेटी सो गई

और फिर एक बार हमारी बेटी सो गई तो मैंने उसे मेरा पांचवा सरप्राइज दिया जो एक कार्ड और एक कप और टेडी बेयर था. उसके साथ ही मेरा सातवा सरप्राइज भी पैक था, एक अलादीन का चिराग जिसमे लिखा था, “मैं तुम्हे दुनिया दिखा सकता हूँ.”

“मगर सात सरप्राइज क्यों?और सातवां सरप्राइज क्या है?” अब जब सोने का समय हो रहा था तब उसने मुझसे पुछा.

“सात सरप्राइज हमारे शादी के सात वचनो के लिए और ये है ख़ास तुम्हारे लिए मेरा सातवा सरप्राइज,” मैंने कहा और म्यूजिक सिस्टम पर “मैया मैया” गाना चला दिया. मैं अपनी लचीली कमर को घुमा घुमा कर बेल्ली नृत्य करने की पूरी कोशिश कर रहा था की मेरे उधार के लाये हारेम पैंट की सिलाई उधड़ने लगी. हम दोनों मेरी इस हालत को देखकर हँसते हँसते लोटपोट हो गए.

प्यार, दुर्व्यवहार और धोखाधड़ी पर असली कहानियां

और तब उसने मेरे कानो में धीरे से फुसफुसा कर कहा, “मुझे तुम्हारी की गई एक एक चीज़ बहुत अच्छी लगी. थैंक यू इतने शानदार दिन के लिए.”

मैंने उसे बाहों में भर लिया और हमारे अधर मिल गए.

 

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No