Hindi

ये प्रश्न पूछने से सभी डरते हैं…

एक समाज के रूप में, हम संबंधों के यौन पहलुओं को सार्वजनिक रूप से स्वीकार करने के प्रारंभिक चरण में हैं।
Girl-Asking-Woman

“ऐसा लगता है जैसे मैं उसकी बहन हूँ।”

“वह बगैर किसी भावनात्मक लगाव के केवल सेक्स पर केंद्रित है।”

“मुझे लगता है कि हम रूममेट्स हैं। काम करो, खाना खाओ, साथ में सो जाओ। बस इतना ही।”

“हम दोनों यह तीन बार करना चाहते हैं। वह, साल में तीन बार। मैं, सप्ताह में तीन बार।”

ये कुछ बातें हमारे पास आने का फैसला करने वाले जोड़ों ने कही हैं।

ये भी पढ़े: मैंने अपने ब्वायफ्रैंड के साथ कामसूत्र की मुद्राएं करने का प्रयास किया और हुआ कुछ ऐसा

जो समस्या को स्वीकार करने का, इस बारे में बात करने का, सहायता प्राप्त करने का निर्णय लेते हैं, उनकी संख्या बहुत कम है। केवल नाममात्र। अधिकांश लोग चुपचाप पीड़ा सहन करते हैं, किसी समस्या के अस्तित्व को ही नकार देते हैं। यह ऐसा है जैसे यौन जीवन किसी दूसरे ग्रह की अवधारणा है। या ऐसा कुछ जिसे नाम नहीं दिया जा सकता और बहुत कम चर्चा की जा सकती है।

कामसूत्र की भूमि में, जहां सेक्स पर चर्चा की जाती थी, उसके साथ प्रयोग किए जाते थे और यहां तक की सम्मानित भी किया जाता था, मध्य युग ने इसे एक वर्जित विषय बनाते हुए अंधेरे में छुपा दिया। पूछो मत, बताओ मत। स्वाभाविक प्रवृत्तियों का दमन किया गया, विचारों को दबाया गया और संदर्भों को मिटा दिया गया।

पुरूषों और स्त्रियों से अपेक्षा की जाती है कि वे काम तो पूरा कर लें, लेकिन उसके बारे में बात ना करें, जिससे संचार की दूरी और इच्छाओं, विचारों और आवेगों के साथ हर तरह का बेमेल हो सकता है।

हर व्यक्ति अद्वितीय है, उनके पास अपने विचार, ज्ञान (या कमी) और ज़रूरतें होती हैं। हार्मोन्स होते हैं। सामाजिक अपेक्षाओं और प्रतिबंधों की परस्पर क्रिया होती है। सहकर्मियों का दबाव बनता है। संचालन की कठिनाइयां उत्पन्न हो जाती हैं। समय दुर्लभ हो जाता है। संयुक्त परिवारों और बच्चों के साथ गोपनीयता अस्तित्व में ही नहीं है। वह रात में यह करना चाहता है लेकिन वह थकी हुई होती है। वह भावनात्मक पूर्ति चाहती है, और वह इसके संबंध को ही नहीं समझता। वह चरमोत्कर्ष चाहती है, वह लंबे फोरप्ले को बनाए नहीं रख सकता। वह नई चीज़ों का प्रयोग करना चाहता है, वह अपनी कल्पनाओं के बारे में बात करना चाहती है। वह अपनी आगामी पदोन्नति के बारे में सोच रहा है, वह निकटवर्ती समयसीमा के बारे में सोच रही है।

“मुखमैथुन, डियर?’’ ‘‘छी..’’

“सोने से पहले की बातें?’’ ‘‘सुबह जल्दी उठना है….ऑफिस में मीटिंग है”

“चलो लिपटते हैं?’’ ‘‘क्या?’’

ये भी पढ़े: उसने मुझे धोखा दिया लेकिन चाहता है कि मैं उसे वापस अपना लूँ

परिस्थितियां अंतहीन हैं और समाधान, नज़र नहीं आ रहा। कहां जाएं? किसे पूछें? किस बारे में बात करें? पर्याप्त नहीं होने का अपराधबोध, पर्याप्त नहीं होने की शर्म। अजनबियों के सामने खुलने का डर। लज्जाजनक बातों को सबके सामने कहना। लेकिन स्थिति बदल रही है। लोग खुल रहे हैं।

हालांकि अनिच्छा से ही, लेकिन समाज स्वीकार करने लगा है कि संबंधों का एक यौन पक्ष भी है और वह हमेशा संतुष्टिदायक और आनंदपूर्ण नहीं हो सकता।

जब वे व्यवसायिकों के पास आते हैं, तो यह बहुत नाजु़क बंधन की शुरूआत होती है, जिसे बहुत सावधान, संवेदनशील और कभी कभी कठिन प्रबंधन की आवश्यकता होती है। धीरे-धीरे चुटकुले और आंसू, क्रोध और दोष, संदेह और अपराधबोध और शर्म, टूटे शब्दों या तेज प्रवाह के रूप में कहानी उभरती है। वे बोलते हैं, हम सुनते हैं। वे रूकते हैं, हम प्रतीक्षा करते हैं। वे टूटते हैं, हम सहयोग करते हैं। वे स्पष्ट हो जाते हैं, हम प्रोत्साहित करते हैं। वे सहज हो जाते हैं। बंधन मज़बूत हो जाता है।

फिर प्रश्न आते हैं। हम प्रसन्न हैं। इसलिए नहीं क्योंकि हम हर उत्तर जानते हैं, हम नहीं जानते। लेकिन चूंकि अब हम साथ में उन्हें ढूंढना शुरू कर सकते हैं। हम मूलभूत बातों, शरीर की रचना (यह क्या है), शरीर विज्ञान (यह कैसे काम करता है) भौतिक और मनोवैज्ञानिक रसायन शास्त्र पर जाते हैं। और कहीं चर्चा में, उत्तर आने लगते हैं। हमें अहसास होने लगता है। पैटर्न उभरने लगते हैं। अव्यवस्थित भावनाएं स्पष्ट होने लगती हैं। वे स्वयं को समझने लगते हैं और साथी को समझने की कोशिश करते हैं। और वे कार्यवाही के लिए तैयार हैं।

ये भी पढ़े: संबंध समस्याओं को हल करने में ‘मेकअप सेक्स’ उतना सहायक नहीं है जितना आप समझते हैं

यौन चिकित्सा में बहुत समय, धैर्य और दृढ़ता की आवश्यकता होती है। कोई चमत्कारी परिणाम नहीं होते हैं। इसमें बहुत सा काम शामिल है। व्यायाम, तकनीकें, होमवर्क, परीक्षण, त्रुटियां, असफलताएं। और अंत में कुछ सफलता। हम उन्हें सिखाते हैं, वे हमें सिखाते हैं। फिर अधिक काम, प्रोत्साहन, प्रेरणा, कुछ असफलता और अधिक प्रगति। हालांकि बाहर से दिखाई नहीं देता, लेकिन संबंध के भीतर बहुत कुछ बदल जाता है।

sex-therapy

फिर अलविदा कहने का समय आता है। लेकिन नए आत्मविश्वास और सेक्सोलॉजिस्ट और उसके ग्राहकों के बीच मज़बूत बंधन के साथ, और उससे भी अधिक मज़बूत बंधन जोड़े के बीच बन जाता है। कभी-कभी नए रास्ते तलाश करते हुए उपचार जारी रह सकता है। लेकिन इसमें से ज़्यादातर समयबद्ध और सीमित होता है। अधिकांश अंत सुखद होते हैं।

कभी-कभार वे वापस आ जाते हैं। सात साल पहले, स मेरे पास विवाह के दो वर्षों के दौरान यौन संबंध की गैर परिपूर्णता के लिए आया था। चूंकि इस बारे में किसी से बात नहीं की जा सकती थी, तो दबाव बन गया। उपचार सकारात्मक परिणाम के साथ चार महीने चला था। वह जोड़ा पिछले साल एक बच्चे के साथ आया था। वे ऑस्ट्रेलिया जाने के मार्ग पर थे। जाते समय, पति ने मुझे धन्यवाद दिया। आपको बता दूं कि बच्चे के लिए नहीं। बल्कि इसलिए क्योंकि दिन के अंत में वे एक दूसरे से मिलने के लिए उत्सुक रहते हैं। संबंध में जो कुंठा थी वह जा चुकी थी।

समाज धीरे-धीरे बदल रहा है। अब भी कालीन के नीचे बहुत कुछ दबा हुआ है लेकिन अब हम कभी कभार कालीन को उठा लेते हैं यह देखने के लिए कि हम इसके बारे में क्या कर सकते हैं। और बहुत कुछ किया जाना है।

विवाहित लोगों द्वारा 11 कथन जो बताते हैं कि उन्होंने सेक्स करना क्यों समाप्त कर दिया

संतान होने के बाद आकर्षण बरकरार रखने की कला

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No