Hindi

ज़िन्दगी के सच के बीच फेसबुक वाले झूठ

क्या सचमुच जो जोड़े अपनी ज़्यादा खुशहाल फोटो फेसबुक और इंस्टाग्राम पर साझा करते हैं, उनकी वास्तविक ज़िन्दगी भी उतनी ही खुशहाल होती है...
man-and-woman-taking-selfie

कोलकाता में एक जानीमानी फ़िल्मी हस्ती है जिसकी कोई भी फोटो बिना उसकी पत्नी के नहीं दिखती. चाहे वो फोटो उनकी छुट्टियों की हो, या किसी समारोह में उनके आमंत्रण की, किसी फिल्म प्रीमियर की या दुनिया के किसी भी कोने में उनकी उपस्तिथि की, वो दोनों हमेशा ही फोटो में एक साथनज़र आते हैं. बीस से ज़्यादा वर्षों से दोनों की शादी हो चुकी है, दोनों के कपड़ो के रंग तक मेल खाते हैं, और उनकी मुस्कान आपके किचन में रखी शक्कर से भी ज़्यादा मीठी है.

सोशल मीडिया की प्रोफाइल और असल ज़िंदगी एक जैसी नहीं होती

चीज़ें फेसबुक, ट्विटर और अखबार के रंगीन पन्नो पर कुछ अलग ही नज़र आती हैं. मगर जो भी इस दम्पति को अच्छे से जानता है, ये भी जानता है की इस फ़िल्मी जोड़े की ज़िन्दगी में कितनी दरारें हैं. जहाँ एक तरफ पुरुष अपने मनचले दिलफेंख व्यवहार के लिए जाना जाता है, वही पत्नी की हर फोटो में दिखने के ललक सर्वज्ञात है.

ये भी पढ़े: क्यों पति पत्नी का अलग कमरों में सोना अच्छी सलाह है

एक बार मैं अपनी सहेलियों के साथ पार्टी कर रही थी. उस ग्रुप में यह महिला भी थी. बार बार उसके पति का फ़ोन आ रहा था ये जानने के लिए की वो घर कब तक पहुंचेगी. सच कहूँ तो मुझे समझ नहीं आ रहा था की उसके पति के ये लगातार फ़ोन कॉल क्यूट थे या जुनूनी. बाद में जब मैंने अपनी एक सहेली, जो फिल्म जगत में ही काम करती है, को इस घटना के बारे में बताया तो वो हंसने लगी.

करीब पांच मिनट तक हंसने के बाद उसने कहा की उसने ज़रूर किसी को घर पर आमंत्रित किया होगा क्योंकि पत्नी घर पर नहीं थी, और बार बार फोन अपने फायदे के लिए कर रहा होगा. उसकी बात सुन कर मैं तो स्तब्ध रह गई.

कई सालों बाद मैंने कई बार इस जोड़े को सोशल मीडिया पर एक दुसरे को कुछ ज़्यादा ही आत्मीय होते देखा और मैं घृणित हो गई क्योंकि उन फोटो केपीछे की कहानी मुझे मालूम थी.

क्या वो असुरक्षित महसूस करते हैं?

शायद मेरी इस बात के लिए मेरी बहुत आलोचना हो मगर मैंने देखा है की जो जोड़े अपनी बहुत ही प्रेम भरी फोटो सोशल मीडिया पर साझा करते हैं, असली ज़िन्दगी में उनकी हालत उस छवि से बिलकुल विपरीत ही होती है. “पर्सनालिटी एंड सोशल सयकोलोजी” में प्रकाशित एक शोध के मुताबिक: जब लोग अपने साथी की भावनाओं को लेकर असुरक्षित महसूस करते हैं, वो अपने रिश्ते को और ज़्यादा दिखाने की कोशिश में लग जाते हैं.”

ये भी पढ़े: दो पुरुषों के बीच उसे एक को चुनना था

We-are-su-much-in-love-

मैं एक ऐसे दम्पति को जानती हूँ जो साल में कम से कम तीन बार तो विदेश भ्रमण के लिए जाता ही था. अब जब उनकी एक एक साल की बेटी है, उनके ये ट्रिप बढ़ कर चार या पांच बार हो गए हैं. वो जब भी अपनी छुट्टिओं की फोटो डालते हैं, “कितने प्यारी फॅमिली है” “बहुत क्यूट” जैसे टिप्पणियों की भरमार हो जाती है.

एक घटना बताती हूँ. एक दिन मैं इस परिवार के पुरुष से मिली. इधर उधर की बात करने के बाद मैंने उनसे पुछा, “बेटी को कल बुखार था न? अब कैसी है?”

जवाब देना तो दूर, उन्होंने मुझे ऐसे देखा जैसे मैं उन्हें मंगल गृह से आये सदस्यों का पता पूछ रही हूँ.

“बुखार?आपको किसने कहा?” बच्ची के पिता ने पुछा.

“आपकी पत्नी ने. उससे कल बात हुई थी,” मैंने जवाब दिया.

ये भी पढ़े: क्या सिखाते हैं देवी-देवता हमें दांपत्य जीवन के बारे में

तो बड़े खीजते हुए उन्होंने सफाई दी, “ओह असल में आजकल मैं जब घर आता हूँ, वो दोनों सो चुके होते हैं. मुझे सुबह जल्दी निकलना होता है इसलिए मैं सोता भी दुसरे रूम में हूँ. मुझे अंदाज़ा भी नहीं होता की मेरे घर में क्या चल रहा है.”

मैंने नहीं बताया की उसकी पत्नी मुझे बता चुकी थी की ये पूरा परिवार साल में चार बार उन चार दिनों की छुट्टिओं में ही साथ रहता है.

बाकी समय दोनों अपनी अपनी ज़िन्दगी ही जीते हैं. वो घर और बेटी संभालती है और पुरुष काम और छुटियाँ.

उनका व्यवहार काफी अजीब था

तो आप कल्पना कर सकते हैं की जब मैं इस परिवार की फोटो फेसबुक पर देखती हूँ, मुझे कैसा लगता होगा. खासकर वो तसवीरें जिसमे पिता अपनी बेटी को अपने पेट पर लिटाये निहार रहा है या अपनी पत्नी के साथ एक ही गिलास में से जूस पी रहा है. और इन सब फोटो का बिलकुल आदर्श बैकग्राउंड होता है विशाल नीला समंदर…

हमारी एक कॉमन मित्र ऋतविका (पहचान छुपाने के लिए नाम बदल दिया है) कहती है की जब भी वो इस दम्पति को एक दुसरे के आगोश में लिपटे किसी खूबसूरत वादी वाली सेल्फी देखती है, उसका मन घृणा से भर जाता है. दोनों पति और पत्नी ऋतविका के बचपन के मित्र हैं. जब वो दिल्ली में थी तो उनके घर भी रहने गई थी. दोनों ने उसकी बहुत खातिरदारी की. एक बार वो तीनो कलकत्ता के पार्क स्ट्रीट में मिले. सबने साथ मिल कुछ शराब पी और फिर डिनर किया. उसके बाद ये तय हुआ की सभी ऋतविका के घर जायेंगे और वहीं रात को रुकेंगे.

“आजतक मैं अपने उस फैसले को सोचकर पछताती हूँ,” ऋतविका कहती है.

ये भी पढ़े: कमिटेड होने के बाद अपने ब्वॉयफ्रैंड को ये 10 प्यारे स्टेटस भेजें

घर पहुंचते ही पति अजीब अजीब हरकतें करने लगा और अपनी पत्नी के सामने ऋतविका से पुछा की क्या वो उसे किस कर सकता है. पत्नी ने कोई रोष नहीं दिखाया, उल्टा मुस्कुराते हुए ऋतविका से कहा की “अगर इसे थप्पड़ मारना चाहती हो तो मार सकती हो.”

ऋतविका पति पत्नी के ऐसे रवैए से सकपका गई और उससे कोई प्रतिक्रिया ही नहीं दी गई. इस बीच पुरुष हर जगह ऋतविका के पीछे पीछे घूम रहा था-चाहे वो किचन में जाये चाहे बैडरूम में-वो उससे यही कहता रहा की क्या वो ऋतविका को किस कर सकता है.

“मुझे उसी समय उन्हें अपने घर से धक्के मार के निकल देना चाहिए था मगर पता नहीं क्यों, दोस्ती के लिहाज़ में मैं कुछ कह या कर ही नहीं रही थी” ऋतविका बताती है. बाद में उसे पता चला की पति ऐसी हरकत और भी कुछ मित्रो से साथ कर चूका है और पत्नी को कभी उसके इस व्यवहार से आपत्ति नहीं होती.

रिश्ते गुदगुदाते हैं, रिश्ते रुलाते हैं. रिश्तों की तहों को खोलना है तो यहाँ क्लिक करें

आज पार्टी, कल तलाक़

मगर सब से चौंकाने वाली घटना मैं आपको अब बताती हूँ. मेरे फ्रेंड लिस्ट में एक पति की फोटो देखी थी जिसमे वो अपनी पत्नी को उसके जन्मदिन पर किसी पांच सितारा होटल में खाना खिला रहा था. करीब छह महीने बाद उसी पुरुष के फेसबुक पे मैंने उसकी दूसरी शादी के तस्वीरें देखी . मैं तो अचंभित ही हो गयी. मुझे अभी तक उस दिल के आकार का खूबसूरत चॉकलेट केक की फोटो याद थी और मुझे अंदाज़ा भी नहीं था की दोनों का इन छह महीनों में तलाक़ हो गया था. बाद में समझ आया की वो केक वाली फोटो उनके टूटते रिश्ते को जुड़ा दिखने की शायद आखिरी कोशिश थी.

मुझे कोई हक़ नहीं है की मैं किसी की निजी ज़िन्दगी के ऊपर टिपण्णी करूँ या उन्हें सही और गलत के पैमाने पर रखूँ. हर किसी को अपनी ज़िन्दगी अपने तरीके और अपनी शर्तों पर जीने का हक़ है. और मेरे इस लेख से मैं ये भी नहीं कहना चाहती कीसोशल मीडिया पर जब भी कोई जोड़ा अपनी प्यारी सी फोटो डालता है, तो इसका मतलब ठीक विपरीत सच ही होता है. मगर हाँ जब ऐसे कुछ सच्चे किस्से आपके आसपास होने लगें तो मन शक्की हो जाता है. आजकल किसी भी जोड़े या परिवार की कुछ ज़्यादा ही हंसती प्यार जतातीफोटो दिखती हूँ, तो मेरा सनकी मन पूछ ही लेता है मुझसे, “इनके बीच सब ठीक तो है न?”

सुखी विवाह के लिए ये सरलतम 9 नियम

मैसेज द्वारा किसी पुरूष को लुभाने के नुस्खे

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No