एक छोटा सा पेड और उसके नीचे वो झुर्रियों वाली प्रेम कहानी

प्यार करना जन्नत की एक झलक पाने से कम नहीं…. करेंन सुंदे यह बात साल १९९७ की है. मैं पुणे के एक गर्लस हॉस्टल में रहती थी. क्योंकि हॉस्टल आर्मी के बच्चों के लिए आर्मी के द्वारा ही बनाया गया था, उसके कायदे और शानोशौकत काफी अलग थी. हॉस्टल एक बहुत ही खूबसूरत मगर प्राचीन …

एक छोटा सा पेड और उसके नीचे वो झुर्रियों वाली प्रेम कहानी Read More »